विशेष सूचना एवं निवेदन:

मीडिया से जुड़े बन्धुओं सादर नमस्कार ! यदि आपको मेरी कोई भी लिखित सामग्री, लेख अथवा जानकारी पसन्द आती है और आप उसे अपने समाचार पत्र, पत्रिका, टी.वी., वेबसाईटस, रिसर्च पेपर अथवा अन्य कहीं भी इस्तेमाल करना चाहते हैं तो सम्पर्क करें :rajeshtitoli@gmail.com अथवा मोबाईल नं. 09416629889. अथवा (RAJESH KASHYAP, Freelance Journalist, H.No. 1229, Near Shiva Temple, V.& P.O. Titoli, Distt. Rohtak (Haryana)-124005) पर जरूर प्रेषित करें। धन्यवाद।

विशेष लेख सीधे मंगवाएं

विशेष लेखों के लिए आप सीधे ईमेल rajeshtitoli@gmail.com अथवा मोबाईल 09416629889 नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं। ................................................... Note : ब्लॉग पर विज्ञापन देने के लिए सम्पर्क करें। प्रारंभिक विज्ञापन दर प्रतिमाह मात्र 1000.00 रूपये (साईज 6"X2") रखी गई है।

गुरुवार, 25 जून 2015

देखिये, आडवाणी व अन्य नेता आपातकाल में रोहतक की इस जेल में रहे थे कैदी

देखिये, आडवाणी व अन्य नेता आपातकाल में 
रोहतक की इस जेल में रहे थे कैदी
-राजेश कश्यप 
         40 साल पहले आपातकाल की स्मृतियां आज भी भाजपा के वरिष्ठ व वयोवृद्ध नेता लाल कृष्ण आडवाणी को बैचेन कर रही हैं। आपातकाल के दौरान उन्हें हरियाणा जिले की राजनीतिक राजधानी कहलाने वाले जिले रोहतक की जेल में कैद किया गया था। हालांकि, उस जेल को स्थानांतरित करके पिछले साल सुनारियां चौक पर पहुंचा दिया गया है और पुरानी जेल के स्थान पर हुडा विभाग ने एक भव्य पार्क का निर्माण किया है।  
         रोहतक की वह पुरानी जेल, जिसमें वर्ष 1975 के आपातकाल के दौरान पूर्व उपप्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी और अन्य कई राज्य व राष्ट्रीय स्तर की राजनीतिक हस्तियों को कैद किया गया था, वह अब दुर्लभ दस्तावेजी धरोहर में शामिल हो चुकी है। उस पुरानी जेल का दुर्लभ फोटो मैंने कई साल पहले अपने कैमरे में कैद कर लिया था। 
         चूंकि, लाल आडवाणी सहित जो भी नेता उस रोहतक की उस पुरानी जेल की टीस याद करके आज भी सिहर उठते हैं, आज आपको भी उस जेल के दर्शन करवा रहा हूँ। 
रोहतक की पुरानी जेल। (छाया चित्र: राजेश कश्यप)
         गौर से देखिये, यही है वह रोहतक की वह पुरानी जेल, जिसमें भाजपा के राष्ट्रीय नेता लाल कृष्ण आडवाणी के अलावा, मधु दण्डवते, चौधरी देवीलाल, डॉ. मंगलसेन, चौधरी ओम प्रकाश चौटाला, सिकन्दर बख्त जैसी महान सख्शियत कैद की गईं थीं।

पूर्व प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी की जुबानी 
आपातकाल के दौरान रोहतक जेल की पुरानी टीस
‘‘आपातकाल के दौरान जब हमें रोहतक लाया गया तो मध्य रात्रि हो चुकी थी और भारी बारिश हो रही थी। जेल अधिकारियों के साथ रोहतक में पहला सामना कोई सुखद नहीं रहा। जेल के उप-अधीक्षक, जिसका नाम सैनी था, ने एक अपराधी हमारे सामान की जांच-पड़ताल करने को कहा। हमारे कपड़ों और पुस्तकों को देखने के बाद  निराशा हाथ लगने पर वार्डर ने हमारी चप्पलों के तल्ले में ढ़ूंढ़ना शुरू कर किया कि हमने वहां कोई गुप्त कागजात तो नहीं छुपा रखे हैं।’’ (दैनिक ट्रिब्यून 25 जून, 2015)