विशेष सूचना एवं निवेदन:

मीडिया से जुड़े बन्धुओं सादर नमस्कार ! यदि आपको मेरी कोई भी लिखित सामग्री, लेख अथवा जानकारी पसन्द आती है और आप उसे अपने समाचार पत्र, पत्रिका, टी.वी., वेबसाईटस, रिसर्च पेपर अथवा अन्य कहीं भी इस्तेमाल करना चाहते हैं तो सम्पर्क करें :rajeshtitoli@gmail.com अथवा मोबाईल नं. 09416629889. अथवा (RAJESH KASHYAP, Freelance Journalist, H.No. 1229, Near Shiva Temple, V.& P.O. Titoli, Distt. Rohtak (Haryana)-124005) पर जरूर प्रेषित करें। धन्यवाद।

विशेष लेख सीधे मंगवाएं

विशेष लेखों के लिए आप सीधे ईमेल rajeshtitoli@gmail.com अथवा मोबाईल 09416629889 नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं। ................................................... Note : ब्लॉग पर विज्ञापन देने के लिए सम्पर्क करें। प्रारंभिक विज्ञापन दर प्रतिमाह मात्र 1000.00 रूपये (साईज 6"X2") रखी गई है।

शुक्रवार, 19 जून 2015

योग का पौराणिक और वैज्ञानिक महत्व

21 जून, 2015/ प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस विशेष
योग का पौराणिक और वैज्ञानिक महत्व
-राजेश कश्यप 
21 जून, 2015/ प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस विशेष
        पौराणिक सन्दर्भों के अनुसार भारत प्राचीनकाल में 'विश्वगुरू' कहलाता था और इसका स्थान विश्व में ज्ञान-विज्ञान, संगीत, कला व संस्कृति के क्षेत्र में हमेशा अग्रणीय रहता था। विश्व के सभी देश यहाँ आकर ज्ञान-विज्ञान की दीक्षा लेते थे और भारत को अपने आध्यात्मिक गुरू एवं मार्गदर्शन के रूप में स्वीकार करते थे। इस सन्दर्भ में मनुस्मृति में इस प्रकार उल्लेख किया गया है :-
'ऐतद्देश्प्रसूतस्य सकाशादग्रजन्मन:।
स्वं चरित्रं शिक्षेरन् पृथिव्यां सर्वमानवा:।।'
        12 दिसम्बर, 2014 को संयुक्त राष्ट्र संघ ने जैसे ही भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रस्ताव एवं आह्वान को दुनिया के 170 देशों की ऐतिहासिक स्वीकृति के बाद प्रतिवर्ष 21 जून को 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' मनाने की घोषणा की तो भारत एक बार फिर इक्कीशवीं सदी में 'वैश्विक गुरू' की भूमिका में आ गया। अध्यात्म और योग भारत की मूल पहचान रही है। अनेक विद्वानों का मानना है कि योगाभ्यास सभ्यता के प्रारंभिक काल से ही चला आ रहा है। योग की सर्वव्यापकता 2700 ई.पूर्व सिंधु सरस्वती घाटी की सभ्यता में देखने को मिली और एक 'अमिट सांस्कृतिक विरासत' बनी।  'विश्व योग दिवस' से इस पहचान व प्रतिष्ठा को अपार बल मिलेगा। इसके साथ ही पूरा विश्व योग के आध्यात्मिक एवं वैज्ञानिक महत्व से रूबरू होगा और साथ ही उसके लाभों से युक्त होकर एक नई दिशा में अग्रसित होगा। पूरी दुनिया में योग पर शोध को बढ़ावा मिलेगा, इसका सहज अनुमान लगाया जा सकता है।
        'योग' क्या है? इसे संक्षिप्त रूप में परिभाषित करना सहज संभव नहीं है, क्योंकि 'योग' शब्द का व्यवहारिक अर्थ बेहद व्यापक है। लेकिन, साधारण शब्दों में 'योग' का मतलब 'जुडऩा', 'मिलना', 'युक्त होना', 'एकत्र होना' आदि होता है। संस्कृत में योग की उत्पत्ति 'युज' धातु से मानी गई है। 'युज' धातु में 'धञ' प्रत्यय जुडऩे से 'योग' शब्द की व्युत्पत्ति हुई है। संस्कृत में 'युज' धातु का प्रयोग रूधादिगण में 'संयोग' के लिए, दिवादिगण में 'समाधि' के लिए और चुरादिगण में 'संयमन' के लिए प्रयुक्त हुआ है। 
        महर्षि पंतजलि ने अपने 'योगदर्शन' नामक ग्रन्थ में योग को चित को शांत करने व शरीर को रोगों से मुक्त करने वाला अचूक मंत्र कहा है। उन्होंने 'योग दर्शन' के समाधि पाद के द्वितीय सूत्र में योग को इस तरह से परिभाषित किया है :-
'योगश्चित्तवृत्तिनिरोध:।। 2।।
तदा द्रष्टु: स्वरूपेऽस्थानाम्।। 3।।
वृत्तिसारूप्यमितरत्र।' ।। 4।।
        अर्थात्, चित्त की वृत्तियों का निरोध ही योग है। तब द्रष्टा के स्वरूप में अवस्थिति होती है। दूसरी अवस्था में द्रष्टा वृत्ति के समान रूप वाला प्रतीत होता है। 
        वेदान्त के अनुसार, 'जीवात्मा और परमात्मा को संपूर्ण रूप से मिलना योग है।' 
        योग वशिष्ठ के अनुसार, 'संसार सागर से पार होने की युक्ति को ही योग कहते हैं।'
        भगवान श्रीकृष्ण ने श्रीमद भगवदगीता के छठे अध्याय के 16वें व 17वें श्लोक में योग का जिक्र करते हुए कहा है :-
'नात्यश्रतस्तु योगोऽस्ति न चैकान्तमनश्रत:।
न चाति स्वप्रशीलस्य जाग्रतो नैवचार्जुन।।
युकृाहार विहारस्य युक्त चेष्टस्य कर्मसु।
युक्त स्वप्रावबोधस्य योगो भवति दु:खहा।।'
        अर्थात्, जो बहुत भोजन करता है, उसका योग सिद्ध नहीं होता। जो निराहार रहता है, उसका भी योग सिद्ध नहीं होता। जो बहुत सोता है, उसका भी योग सिद्ध नहीं होता और न ही उसका योग सिद्ध होता है, जो बहुत जागता है। जो मनुष्य आहार-विहार में, दूसरे कर्मों में, सोने-जागने में परिमित रहता है, उसका योग दु:खभंजन हो जाता है। 
        एक महायोगी ने योग को इस तरह से परिभाषित किया है :-
'योगं वदान्यै बल बुद्धि श्रेष्ठं,
पौरूष भवेत सदचित्त सौख्यं।
आत्मं परमात्मं भवतां नरेणं,
क्षेम च श्रेय योगं सुधीन:।।'
        अर्थात्, सम्पूर्ण जीवन में योग ही एक ऐसा मार्ग है, जिसके द्वारा पुरूष को बल, बुद्धि, श्रेष्ठता, पौरूष एवं सच्चरित्रता, ये पाँच सर्वोत्तम गुण प्राप्त होते हैं। योग के द्वारा ही व्यक्ति सामान्य स्तर से ऊपर उठकर आत्मा और परमात्मा तक पहुँचने की क्षमता प्राप्त कर लेता है और इसके माध्यम से ही व्यक्ति को कल्याण, शुभत्व और सुधि की प्राप्ति होती है। 
        योगशास्त्र में शिव को प्रथम योगी माना गया है और उसे 'आदियोगी' की संज्ञा दी गई है। कई अन्य पौराणिक सन्दर्भों में भी शिव को प्रथम योग गुरू व आदि गुरू माना गया है। माना जाता है कि कई हजार वर्ष पूर्व, हिमालय में 'कांति सरोवर' के तट पर आदियोगी ने योग का ज्ञान-विज्ञान 'सप्तऋषियों' (सात ऋषियों) को दिया था। बाद में इन्हीं सप्तऋषियों ने आदिगुरू द्वारा दिये गए योग-ज्ञान को धरती के कोने-कोने में पहुँचाने का कार्य किया। पौराणिक ग्रन्थों के अनुसार भारतीय प्रायद्वीप व उसके आसपास योग संस्कृति जीवन का मूल आधार बनी। इसका साक्ष्य पुरास्थलों की खुदाई के दौरान मिलीं ऐसी अनेक मूर्तियां, मुहरें एवं तरह-तरह की सामग्रियां हैं, जिनमें योग की विभिन्न मुद्राएं अंकित हैं। योग की विशिष्ट महिमा का उल्लेख अमृताशीति, योग तत्वोपनिषद, योगकुण्डल्योपनिषद, योग चूड़ामण्युपनिषद, हठयोग प्रदीप, कूर्म पुराण, ज्ञानार्णव, मरण्यकण्टिका, समाधितंत्र, लिंग पुराण, देवी भागवत, मार्कण्डेय पुराण, वायु पुराण, शिव पुराण, विष्णु पुराण, स्कंध पुराण, नारद पुराण, श्रीमदभगवत, अग्रि पुराण आदि प्राचीन ग्रन्थों में विस्तार से मिलता है। पंतजलि जैसे महर्षियों, मुनियों, साधु-सन्तों, योगाचार्यों और महायोगियों ने योग को सर्वव्यापी बनाने में उल्लेखनीय भूमिकाएं निभाईं हैं। आधुनिक युग में 'योग गुरू' के रूप में मशहूर स्वामी रामदेव ने देश-विदेश में योग का परचम फहराया है। उनके अलावा, अन्य अनेक धर्माचार्य, योगी, साधू, सन्त और विद्वानों ने भी योग संस्कृति को समृद्ध बनाने में अतुलनीय योगदान दिया है। 
        महर्षि पंतजलि ने 'योगदर्शन' में कुल आठ प्रकार के योग बतलाए  गए  हैं,  जोकि इस प्रकार हैं:-1.यम,  2.नियम,  3. आसन्न, 4. प्राणायाम, 5.प्रत्याहार, 6.धारणा, 7.ध्यान और 8.समाधि। इन सबको मिलाकर अष्टांग योग कहा जाता है। योग को किसी धर्म, मजहब अथवा साम्प्रदायिकता के नजरिये से आंकना, मूर्खता के सिवाय कुछ नहीं है। योग का तो एक ही मूलधर्म है, श्रेष्ठ जीवन निर्माण। योग और अध्यात्म को गहराई से समझने की आवश्यकता है। दोनों का मूल काम है व्यक्ति को शारीरिक रूप से निरोग बनाना और मानसिक रूप से मजबूती प्रदान करना। योग के साथ आयुर्वेद भी जुड़ता है। यदि योग और आयुर्वेद को एक-दूसरे का पूरक कहा जाये तो कदापि गलत नहीं होगा। योग व आयुर्वेद तीन गुणों सत्व, रज व तमस और मंचमहाभूत पृथ्वी, वायु, अग्रि, जल और आकाश के सिद्धान्तों पर आधारित हैं।
        सर्वमान्य रूप से कहा जा सकता है कि योग का बहुत महत्व है और यह एक श्रेष्ठ जीवन जीने की कला है। योग करने से शरीर एकदम स्वस्थ व सुन्दर बनता है। योग करने से शारीरिक व मानसिक शांति मिलती है। इससे शरीर सुडौल व मजबूत बनता है और किसी तरह का कोई रोग नहीं होता है। योग से बुद्धि तेज होती है और स्मरण शक्ति बढ़ती है। योग से श्वसन तंत्र मजबूत होता है और ध्यान से मानसिक स्थिरता प्राप्त होती है। इससे एक उद्देश्यपूर्ण जीवन का निर्माण होता है और व्यक्तित्व में व्यवस्थित व योजनाबद्ध तरीके से काम करने की प्रवृत्ति पैदा होती है। योग से तमाम कुप्रवृत्तियों, दुव्र्यसनों और दुर्गुणों से निजात पाई जा सकती है। योग हर प्रकार से शक्तिशाली बनाने के साथ-साथ हमें बुद्धिमान व कार्यकुशल बनाता है। कुल मिलाकर, योग से ही सर्वांगीण विकास संभव हो सकता है। यदि एक श्रेष्ठ जीवन का निर्माण करना है और नकारात्मक ऊर्जा से निजात पाकर सकारात्मक ऊर्जा का संचार करना है तो योग ही एकमात्र उपाय हो सकता है। शारीरिक एवं मानसिक विकारों को योग जड़ से मिटाता है और शरीर में एक नई ताजगी, स्फूर्ति एवं उमंगता का संचार करता है। 
        योग को मैडीकल साईंस ने भी स्वास्थ्य के लिए वरदान माना है। मैक्स हॉस्पिटल, नई दिल्ली के डॉ. प्रदीप चौबे के अनुसार योग की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता शरीर व मन का समन्वयन करना है। योग का रोगों की रोकथाम में सर्वाधिक महत्व है। योग तनाव से मुक्ति पाने का सशक्त माध्यम है। मेदांत दि मेडिसिटी, गुडग़ाँव के डॉ. अम्बरीश मित्तल का मानना है कि योग में 'युक्तिÓ यानी तरीका और 'मुक्ति' यानी तनाव व थकान से छुटकारा, इन दोनों का ही महत्व है। जीवन में संतुलन और सांमजस्य बनाये रखना योग सर्वोत्तम उपाय है। नियमित योग करने से रक्तचाप और मधुमेह जैसी बिमारियों को सहजता से नियंत्रित किया जा सकता है। केजीएम यूनिवर्सिटी, लखनऊ के डॉ. सूर्यकांत कहते हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने सन 1947 में स्वास्थ्य को इस प्रकार परिभाषित किया था, ''दैहिक, मानसिक, सामाजिक और आध्यात्मिक रूप से पूर्णत: स्वस्थ होना ही स्वास्थ्य है।" योग इन उद्देश्यों को प्राप्त करने का सशक्त माध्यम है। केजीएम यूनिवर्सिटी और लखनऊ विश्वविद्यालय के एक शोध के अनुसार यदि प्रतिदिन 30 मिनट योग किया जाये तो अस्थमा के मरीजों के जीवन स्तर में सुधार आता है। मेट्रो हॉस्पिटल व हार्ट इंस्टीच्यूट, नोएडा के निदेशक डॉ. पुरूषोत्तम लाल कहते हैं कि योग रक्तचाप को घटाने और हृदय की धडक़न को नियमित करने में सहायक है। दरअसल, योग केवल कुछ आसनों का नाम नहीं है, बल्कि यह जीने का सम्पूर्ण विज्ञान है। योग न केवल हृदय की बिमारियों की रोकथाम करने के लिए, बल्कि बाईपास सर्जरी और एंजियोप्लास्टी कराने के बाद भी लाभदायक सिद्ध होता है। वरिष्ठ मनोरोग विशेषज्ञ डॉ. उन्नति कुमार का निष्कर्ष है कि योग शरीर के आटोनॉमिक नर्वस सिस्टम (तंत्रिका तंत्र) को सशक्त करता है।         इसके साथ ही मनोरागों को दूर करने में बेहद सहायक सिद्ध होता है।
आधुनिक युग में तो योग अति आवश्यक हो गया है। लोगों की जीवनशैली में व्यापक बदलाव आ चुका है। भयंकर प्रदूषण, रासायनिक खेती, फास्ट-फूड संस्कृति और अनियमित दिनचर्या ने लोगों को शारीरिक व मानसिक रूप से बेहद कमजोर करके रख दिया है। हृदय संबंधी रोगों की बाढ़ आ चुकी है। दुनिया में भयंकर और असाध्य रोगों की कतार लगी हुई है। लोगों में धैर्य और सहनशीलता की भारी कमी आ चुकी है। बौद्धिक स्तर का निरन्तर हा्रस हो रहा है। मानवता पर पाश्विकता हावी हो रही है। यदि यह क्रम निरन्तर चलता रहा तो मानवीय जीवन के भविष्य की कुरूपता का सहज अनुमान लगाया जा सकता है। कहना न होगा कि योग का अनुसरण ही इन समस्त समस्याओं एवं विकारों का निराकरण संभव है।

(राजेश कश्यप)
स्वतंत्र पत्रकार, लेखक एवं समीक्षक।
Mobile No. +919416629889
e-mail : rajeshtitoli@gmail.com