विशेष सूचना एवं निवेदन:

मीडिया से जुड़े बन्धुओं सादर नमस्कार ! यदि आपको मेरी कोई भी लिखित सामग्री, लेख अथवा जानकारी पसन्द आती है और आप उसे अपने समाचार पत्र, पत्रिका, टी.वी., वेबसाईटस, रिसर्च पेपर अथवा अन्य कहीं भी इस्तेमाल करना चाहते हैं तो सम्पर्क करें :rajeshtitoli@gmail.com अथवा मोबाईल नं. 09416629889. अथवा (RAJESH KASHYAP, Freelance Journalist, H.No. 1229, Near Shiva Temple, V.& P.O. Titoli, Distt. Rohtak (Haryana)-124005) पर जरूर प्रेषित करें। धन्यवाद।

विशेष लेख सीधे मंगवाएं

विशेष लेखों के लिए आप सीधे ईमेल rajeshtitoli@gmail.com अथवा मोबाईल 09416629889 नंबर पर सम्पर्क कर सकते हैं। ................................................... Note : ब्लॉग पर विज्ञापन देने के लिए सम्पर्क करें। प्रारंभिक विज्ञापन दर प्रतिमाह मात्र 1000.00 रूपये (साईज 6"X2") रखी गई है।

रविवार, 3 मई 2015

‘प्रज्ञा साहित्य सम्मान-2015’

मुख्य अतिथि श्री मनीष ग्रोवर, रोहतक विधायक के हाथों सम्मान हासिल करते हुए राजेश कश्यप।
        मेरा परमसौभाग्य है कि आज रोहतक (हरियाणा) की शीर्ष 60 विशिष्ट एवं प्रख्यात साहित्यकार विभूतियों के साथ ‘प्रज्ञा साहित्य सम्मान-2015’ हासिल करने का गौरव मिला। यह विशिष्ट सम्मान-समारोह ‘प्रज्ञा साहित्यिक मंच, हरियाणा’ के तत्वाधान में माता ‘इन्द्रा स्वप्न’ की प्रेरणा से आयोजित किया गया था। निःसन्देह, यह मेरे लिये गर्व एवं गौरव का ऐतिहासिक और चिरस्मरणीय पल रहेगा। मैं इस अमूल्य सम्मान एवं आशीर्वाद के लिए मंच के अध्यक्ष श्री मुधकांत, सचिव श्री हरनाम शर्मा और संयोजक श्री मंजूल पालीवाल जी का तहेदिल से आभार एवं धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ। 

मुख्य अतिथि श्री मनीष ग्रोवर, रोहतक विधायक एवं सम्मानित साहित्यकारों के साथ राजेश कश्यप।
     इसके साथ ही मैं ‘प्रज्ञा साहित्यिक मंच’ के सभी सदस्यों और जिला रोहतक की उन महान विशिष्ट विभूतियों का भी तहेदिल से शुक्रिया अदा करता हूँ, जिन्होंने मुझे अपने बीच बैठने का सौभाग्य दिया। मैं समारोह के मुख्य अतिथि माननीय विधायक श्री मनीष गौरव, वरिष्ठ अतिथि वयोवृद्ध साहित्यकार डॉ. हरिश्चन्द्र वर्मा और विशिष्ट अतिथि डॉ. श्याम सखा श्याम, पूर्व निदेशक, हरियाणा साहित्य अकादमी का विशेष तौरपर आभारी हूँ, जिन्होंने अपने शुभ-कर कमलों से आशीर्वाद दिया। मैं हरियाणा साहित्य मनीषी श्री रामफल चहल जी का तहेदिल से धन्यवाद एवं आभार व्यक्त करता हूँ, जिन्होंने मुझे चद्दर व पटका पहनाकर ‘प्रज्ञा साहित्य सम्मान-2015’ का साक्षी बनाया। आप सब मित्रों का भी मैं बेहद धन्यवादी हूँ, जो मुझे निरन्तर प्रेरित करते रहते हैं और हौंसला बढ़ाते रहते हैं। मैं राजेश कश्यप आप सबका तहेदिल से पुनः आभार एवं धन्यवाद व्यक्त करता हूँ। अपना स्नेह, आशीर्वाद एवं मार्गदर्शन बनाये रखियेगा। शुक्रिया।